Breaking News

Vastu Tips For Family: सास और बहू के रिश्ते को मधुर बनाने के लिए करें ये उपाय, घर में छा जाएगी खुशी की लहर

Vastu Tips For Family: सनातन धर्म में विवाह से पहले कुंडली मिलान का विधान है। इससे दूल्हा-दुल्हन के विवाह के बाद के वैवाहिक जीवन की पूरी जानकारी मिलती है। इसके साथ ही दुल्हन की कुंडली से पता चलता है कि सास-बहू के रिश्ते कैसे रहेंगे?

Vastu Tips For Family

सास-बहू का रिश्ता बहुत ही अनमोल और नाजुक होता है। इस रिश्ते में कभी प्यार तो कभी तकरार जैसी स्थिति बन जाती है। हालांकि लंबे समय तक तकरार घर और परिवार की तरक्की के लिए ठीक नहीं है। पारिवारिक कलह के कारण धन की देवी मां लक्ष्मी घर से चली जाती हैं। इसके लिए परिवार के सदस्यों के बीच प्यार और स्नेह होना जरूरी है। वास्तु शास्त्र में सास-बहू के रिश्ते को मजबूत बनाने के लिए कई उपाय बताए गए हैं। इन उपायों को करने से रिश्ते मधुर बनते हैं। आइए जानते हैं-

रिश्तों को मधुर बनाने के उपाय

वास्तु विशेषज्ञों का कहना है कि सास-बहू के रिश्ते को मधुर बनाने के लिए घर में तुलसी का पौधा लगाना चाहिए। इसके अलावा घर में गुलाब, चंपा और चमेली के पौधे लगाने से रिश्ते में प्यार बढ़ सकता है।

वास्तु शास्त्र में बताया गया है कि किचन कैबिनेट काले रंग का नहीं होना चाहिए। किचन कैबिनेट का रंग काला होने से महिलाओं को मानसिक तनाव होता है। इससे सास-बहू में अनबन हो जाती है।

वास्तु विशेषज्ञों का कहना है कि जिन घरों में किचन बीच में होता है। उन घरों में परिवार के सदस्यों के बीच मनमुटाव अधिक रहता है। इसके लिए भूलकर भी घर के बीच में किचन न रखें। वहीं, उत्तर-पूर्व दिशा में किचन होने के कारण सास-बहू में विवाद होता रहता है। इसके लिए किचन को हमेशा दक्षिण दिशा में रखें।

घर की उत्तर-पूर्व दिशा में कूड़ेदान रखने से भी सास-बहू में विवाद होता है। इसके लिए भूलकर भी कूड़ेदान को उत्तर और पूर्व दिशा में न रखें।

अगर सास या बहू से आपके संबंध मधुर नहीं हैं तो घर में गणपति जी या भगवान बुद्ध की सफेद चंदन की मूर्ति रखें। भगवान की मूर्ति ऐसी जगह रखें, जहां से सबकी नजर भगवान पर पड़ सके। इस उपाय को करने से सास-बहू के संबंध मधुर बनते हैं। इसके अलावा कुंडली में ग्रहों की स्थिति का पता लगाएं और उपाय करें।

यहाँ पर हम किसी प्रकार का कोई दावा नहीं करते है।

About aviindianews

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *